Search This Blog

Thursday, September 20, 2012

रजमी साहब नहीं रहे

गहरा दुःख, मुजफ्फर रजमी साहब नहीं रहे, अल्लाह उनको शुकून दे। 

उड़ गया गंगा-जमुनी तहजीब का परा,
खाली रह  गया ये  कोना धरा का धरा।

भगवान  सिंह हंस 

Post a Comment