There was an error in this gadget

Search This Blog

Wednesday, October 17, 2012


डूबें जो कुछ लाख पर होने को बदनाम 
माननीय होते नहीं इतने भी नादान 
इतने भी नादान न झूठी बातें जोड़ो 
तब होता विश्वास जो होते कई करोड़ों 
कहें वेनी प्रसाद देख राजा, कलमाड़ी 
इतनी ओछी नहीं रही ,कुल कीर्ति हमारी 

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment