There was an error in this gadget

Search This Blog

Wednesday, October 24, 2012


हमारे बीच जो टूटा हुआ रिश्ता है , 
घाव गहरा है, रह रह कर रिसता है 

घनश्याम वशिष्ठ 

Post a Comment