There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, October 25, 2012


ज़ेहन में क्या था तेरे न जाना ,
गया फंस वहम में यूँ ही दिवाना 

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment