There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, October 27, 2012


ऐसे लोगों पर कभी, मत करना विश्वास , 
मुँह में मिश्री हृदय में, जिनके हो विष वास 

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment