There was an error in this gadget

Search This Blog

Monday, October 15, 2012

शब्दों से कविता को परमात्मा से जोड़ने का सहज और सरल उपाय

अखिल भारतीय सर्वभाषा संस्कृति समन्वय समिति कि मासिक गोष्ठी दिनांक १४.१०.२०१२ को संध्या समय ५.३० बजे से ९ बजे तक श्री दिनेश वत्स जी के पावन निवास पर संपन्न हुई. गोष्ठी की अध्यक्षता समिति के सर्वमान्य अध्यक्ष पंडित सुरेश नीरव जी ने की. इस गोष्ठी की सम्मानित अतिथि राष्ट्रीय महासचिव डॉ. मधु चतुर्वेदी रही. गोष्ठी में इस बात पर विमर्ष हुआ कि सुदूर राज्य केरल में एक भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया जाए जिससे समिति के ध्येय “सर्वभाषा समन्वय” को सार्थक किया जा सके.
इसके उपरान्त १३ कवियों ने अपनी नयी पुरानी रचनाओं से सदस्यों को आनंदित किया.
कविता पाठ करने वाले कवि रहे :-

१. गुरुदेव पं. सुरेश ‘नीरव’ (अध्यक्ष)
२. डॉ. मधु चतुर्वेदी (राष्ट्रीय महासचिव)
३. अरविन्द पथिक (राष्ट्रीय सचिव)
४. रजनी कान्त ‘राजू’ (राष्ट्रीय उपाध्यक्ष)
५. दिनेश ‘वत्स’ (सदस्य)
६. राहुल उपाध्याय (सदस्य)
७. स्नेहलता (सदस्य)
८. भगवान सिंह ‘हंस’ (सदस्य)
९. गजे सिंह ‘त्यागी’ (सदस्य)
१०. ओम प्रकाश ‘प्रजापति’ (सदस्य)
११. विष्णु शर्मा (सदस्य)
१२. सुनहरी लाल ‘तुरंत’
१३. अशोक शर्मा

सुरेश नीरव जी ने समिति को अपने अमृत शब्दों से कविता को परमात्मा से जोड़ने का सहज और सरल उपाय बताया. उनके अमृत वचनों से संस्था का हर सदस्य कृतज्ञ हुआ और उनको अपनी कविताओं को राष्ट्र तथा धर्मं के लिए समर्पित करने का वचन दिया.
प्रस्तुतिः राहुल उपाध्याय
Post a Comment