There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, November 15, 2012


त्योंहारों के दिन ,
वक़्त का पाँव एक्सीलेटर से नहीं हिला ,
कमबख्त को कहीं जाम ही नहीं मिला .

घनश्याम वशिष्ठ 

Post a Comment