There was an error in this gadget

Search This Blog

Monday, December 3, 2012

नरम -नरम घास
ओस में खिले फूल
और गुनगुनी धूप को
देर तक तकता है
...मन कभी नहीं थकता है..।-
अशोक वर्मा
Post a Comment