Search This Blog

Thursday, February 28, 2013

फर्क नहीं पड़ता, सर पर छत, हो ना हो
खुले अम्बर तले, पर दहशत तो ना हो 

घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment