There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, February 12, 2013

वेलेंटाइन नहीं वसंतपंचमी मनाएं



माघ शुक्ल पंचमी-14 फरवरी2013
या कुंदेंदु तुषार हार धवला या शुभ्र वस्त्रावृता
या वीणा वरदंड मंडित करा या श्वेत पद्मासना
या ब्रह्माच्युत शंकरः प्रभृति देवा सदा वंदिता
सामां पातु सरस्वती,भगवती निःशेष जाड्यापहा।
जिनकी कांति हिम, मुक्ताहार, कपूर तथा चंद्रमा की आभा के समान धवल है, जो परम सुंदरी हैं और चिन्मय शुभ-वस्त्र धारण किए हुए हैं, जिनके एक हाथ में वीणा है और दूसरे में पुस्तक। जो सर्वोत्तम रत्नों से जड़ित दिव्य आभूषण पहने श्वेत पद्मासन पर अवस्थित हैं। जो ब्रह्मा, विष्णु और शिव प्रभृति प्रधान देवताओं और सुरगणों से सुपूजित हैं, सब श्रेष्ठ मुनि जिनके चरणों में मस्तक झुकाते हैं। ऐसी भगवती सरस्वती का मैं भक्तिपूर्वक चिंतन एवं ध्यान करता हूँ। उन्हें प्रणाम करता हूँ। वे सर्वदा मेरी रक्षा करें और मेरी बुद्धि की जड़ता इत्यादि दोषों को सर्वथा दूर करें।

Post a Comment