Search This Blog

Friday, March 22, 2013

विश्व कविता दिवस

विश्व कविता दिवस
 विश्व स्वयं कविता है ब्रहम्मा की। और आज विश्व कविता दिवस है। घृणा,द्वेश और आतंक से मुक्त  एक निर्मल गीत की तरह हो यह विश्व और वैदिक ऋचाओं-सा हो पवित्र हर प्राणी का आचरण,मेरी प्रार्थनाओं के अंतःकरण का यही अनहद् संगीत है।
विश्व स्वयं कविता है ब्रहम्मा की। और आज विश्व कविता दिवस है। घृणा,द्वेश और आतंक से मुक्त  एक निर्मल गीत की तरह हो यह विश्व और वैदिक ऋचाओं-सा हो पवित्र हर प्राणी का आचरण,मेरी प्रार्थनाओं के अंतःकरण का यही है अनहद्                           संगीत.                                                          
-
                                                -पंडित सुरेश नीरव
Post a Comment