There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, October 25, 2013

आदिल रशीद के दो शेर



            सर्वभाषा संस्कृति समन्वय समिति-
----------------------------------------
--------------------------------------------------
सर्वभाषा संस्कृति समन्वय समिति की कोशिश रहती है कि आज जो लिखा जा रहा है और जो अपने खास अंदाज़ के कारण लोगों की जुबान पर है ऐसे मशहूर अशआरों से आपको रू-ब-रू कराया जाए। लीजिए इसी क्रम में पेश हैं आदिल रशीद के दो शेर..। अपनी राय भी दीजिएगा।
-सुरेश नीरव

कल डॉक्टर कुँअर बेचैन के शेरों को पसंद करनेवाले धन्यवाद प्रकाश प्रलयजी,सुरभि वर्माजी,गोपाल लाल पारीकजी,दिनेश दीवानाजी.कृष्ण कुमार पांडेजी,निशुवीर दबेजी,अरविंद श्रीवास्तवजी,रवीन्द्र रविजी,तपन मुखर्जीजी,प्रेमचंद सहजवालाजी,राहुल गुप्ताजी,गिरीश मिश्राजी,जगवीर सिंहजी,दिनेश दीवानाजी,शसीष कुमार तिवारीजी,योगेश मिश्राजी,महावीर मित्तलजी,सुनील पारितजी,विनोद पांडेजी। सभी का हार्दिक आभार।
Post a Comment