Search This Blog

Thursday, October 31, 2013

सुरेश नीरव की ग़ज़ल



सर्वभाषा संस्कृति समन्वय समिति
दोस्तों की महफिल में लीजिए फिर हाज़िर हूं एक नई ग़ज़ल के साथ। अपनी राय जरूर दीजिएगा।
**@सुरेश नीरव
-----------------------------------------------------------------------------

खिलते फूलों में ख़ुद को छिपाते रहे
ख़ुशबुओं की तरह आते-जाते रहे

लाख चेहरे पे चेहरे लगाए मगर
आईऩे में नज़र दाग आते रहे

यूं तो रिमझिम हवा को भिगोती रही
क्यूं बदन धूप के फिर भी प्यासे रहे

उम्रभर की ख़ुशी सौंप दी थी जिन्हें
रंजिशें प्यार में वो बढ़ाते रहे

गुम अंधेरे में सारा ज़माना हुआ
हम तेरी रोशनी में नहाते रहे

फूल जख्मों के थे दर्द के बाग में
अश्क का उनको दाना-पानी लगाते रहे।
Post a Comment