Search This Blog

Friday, November 8, 2013

कवि सुखदेव सरल

कवि सुखदेव  सरल का सम्मान करते हुए  डॉ. नागेश  
तेरी आंखे
स्वास्तिक, शाश्वत, शांतिदायी, शुभम ,
सर्वसुखदायिनी, श्रेष्ठ,  शुचि, श्यामलम। 
सृष्टि  सारी स्वयम  में  समहित किए,
तेरी आंखे हैं  सत्यम, शिवम, सुन्दरम।  

कवि सुखदेव  सरल 
पाली, हरदोई  
मो 9208591230

Post a Comment