There was an error in this gadget

Search This Blog

Wednesday, December 25, 2013

अशोक रावत के अशआर



  • सर्वभाषा संस्कृति समन्वय समिति-
    ***************************
    सर्वभाषा संस्कृति समन्वय समिति की कोशिश रहती है कि आज जो लिखा जा रहा है और जो अपने खास अंदाज़ के कारण लोगों की जुबान पर है ऐसे मशहूर अशआर से आपको रू-ब-रू कराया जाए। लीजिए इसी क्रम में पेश हैं *** अशोक रावत के दो शेर। हमारी यह कोशिश आपको कैसी लगी कृपया अपनी राय ज़रूर दीजिएगा।
    *****-सुरेश नीरव
  • ------------------------------------------------------------------------------------------

    *हार्दिक आभार* हार्दिक आभार* हार्दिक आभार* हार्दिक आभार* हार्दिक आभार* हार्दिक
    ###############################################
    ***** सुश्री मीरा शलभ के अशआरों पर हमें अपने इन पाठकों की प्रतिक्रियाएं मिली हैं- सर्वश्री- रवीन्द्र रविजी,एएल पालीवालजी,दिनेश सोनी मंज़रजी,भीष्म चतुर्वेदीजी,ओमप्रकाशजी,संत कृष्ण आनंदजी,आलोचक साहबजी,कृष्ण मित्रजी,राहुल गुप्ता स्पर्शीजी,हसन काज़डमीजी,शिवनरेशजी,सागर आनंदजी,परवीन कुमारजी,कीर्तिवर्धन अग्रवालजी,धीरज चौहानजी,मीरा शलभजी,रमेश सिद्धर्थजी,केपी सक्सैना दूसरेजी,विजय पटेलजी,कुमार राज समीरजी,कांति शुक्लाजी,एएल पालीवालजी,दिनेश रस्तोगीजी,तपन मुखर्जीजी,अशोक कुमार जैसवालजी,द्वारिकाप्रसाद अग्रवालजी,दिनेश त्रिपाठी दीवानाजी,डॉक्टर मनोज कुमार सिंहजी,दीक्षित दनकौरीजी,विजयप्रशांतजी,अजय अज्ञातजी,कृष्णकांत अग्निहोत्रीजी,घनश्याम दासजी,विकास पांडेजी,उत्कर्ष गाफिलजी,विकास पांडेजी,नारायण पटेलजी,विजय प्रशांतजी और सुशील चौधरीजी।।
  • ---------------------------------------------------------------------------------
    सर्वभाषा संस्कृति समन्वय समिति की और से हम अपने इन सभी सुधि पाठकों का हार्दिक आभार व्यक्त करते हैं और उम्मीद करते हैं कि भविष्य में भी इसी तरह अपनी राय से हमें अवगत कराते रहेंगे।
    @@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

Post a Comment