There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, March 8, 2014

ये लड़ीं हैं , अश्क़ के सैलाब से ,
बन गईं सूरज प्रखर ,महताब से
घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment