There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, May 27, 2014

अभी तक तो हम कदम थे ,मैं और तू ,
कौन  दिशा  भटका ,   खडें हैं  रू -बरू  . 
घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment