Search This Blog

Thursday, November 11, 2010

शब्दिका


सदभावनाए

आँखे मींच रही है

दुर्भावनाए

टांगे खींच रही है

अशाह एकता

कोंन देखता है ..........

प्रकाश प्रलय कटनी

Post a Comment