Search This Blog

Friday, November 19, 2010

शब्दिका


वे देश पर

मर मिटने की

ला इलाज

कसम खाते है............

इलाज विदेश

में करवाते है ...........

प्रकाश प्रलय कटनी

Post a Comment