There was an error in this gadget

Search This Blog

Sunday, November 14, 2010

मनुष्यत्व का विकास

आज का विचार-
संसार में प्यार करने लायक दो वस्तुएँ हैं-एक दुख और दूसरा श्रम। दुख के बिना हृदय निर्मल नहीं होता और श्रम के बिना मनुष्यत्व का विकास नहीं होता। 
जयलोकमंगल

Post a Comment