There was an error in this gadget

Search This Blog

Monday, November 22, 2010

यह गलती किसकी है?क्या स्टार टीवी ने फैलाया भ्रम? कौन से अखबार हैं लापरवाह? गफलत ही गफलत

एजेंसी एक -खबरें दो!! बड़ी नाइसाफी है ये!!
यही तो हुआ स्टार टीवी-ए सी नेल्सन द्वारा किये गये विधान सभा चुनाव के एक्ज़िट पोल( EXIT POLL) में.
आज सुबह जब टाइम्स ओफ इंडिया और हिन्दी हिन्दुस्तान -दो समाचार पत्रों मे इस एक्ज़िट पोल के हवाले से दी गयी दो अलग अलग संख्यायों को पाया तो एकबारगी मैं चोंक गया.



आखिर दो इतने बड़े राष्ट्रीय दैनिक हैं और इतने महत्वपूर्ण चुनाव के सम्बन्ध में एक नामी टी वी चैनल द्वारा कराये गये सर्वेक्षण के गलत नतीजे कैसे छाप सकते हैं?

टाइम्स ओफ इंडिया में छपा : स्टार टीवी-ए सी नेल्सन के अनुसार - राजग को 148, लालू( राजद+) को 68, कांग्रेस को 14 व अन्य को 13 सीटें मिलने का अनुमान है. हिन्दी हिन्दुस्तान में इंन्ही को क्रमश: 150, 57 ,15 व 21 सीटं मिलने का अनुमान है.



एक बड़ा प्रश्न चिन्ह सामने आ गया था. क्या स्टार टीवी-ए सी नेल्सन ने इन दो अखबारों को अलग अलग संख्या बतायी है? आखिर यह छपाई की गलती या प्रूफ की गलती तो कतई नहीं हो सकती.

फिर मैने अन्य अखबारो ,टी वी चैनलों व सम्बन्धित वेबसाइट देखीं तो मामला उलझता ही गया.

जहां इंडिया टुडे व टेली ग्राफ ने वही संख्या छापी जो टाइम्स ओफ इंडिया ने छापी तो लगा कि शायद हिन्दी हिन्दुस्तान ने गलती की होगी. फिर www.electionaffairs.net नामक चुनाव सम्बन्धी साइट देखी तो वहां भी वही संख्या थी. अब तो लगभग तय कर लिया कि हिन्दी हिन्दुस्तान ने गलती की है.

फिर ज़ी न्यूज़ की साइट देखी तो लगा कि नहीं यहां तो मामला उल्टा था. यहां वही खबर थी जो हिन्दी हिन्दुस्तान ने छापी है. अब अंग्रेजी के डेक्कन हेराल्ड (Deccan Herald) और फिर द हिन्दू ( The Hindu) को देखा तो लगा कि हिन्दी हिन्दुस्तान सही था टाइम्स ओफ इंडिया गलत ?


अंत में भास्कर पत्र की वेबसाइट देखी क्यों कि इस सर्वेक्षण को स्टार टीवी- ए सी नील्सेन तथा भास्कर ने मिलकर करवाया था. यहां की संख्या थी - नीतिश-भाजपा राजग को 150, लालू राजद + को 57 , कांग्रेस को 15 व अन्य को 21 सीटं . इसे तो अधिकारिक माना जा सकता है .


अंत में नतीज़ा शून्य .यदि भास्कर की अधिकारिक सूचना को सही मानें तो क्या इंडिया टुडे, टाइम्स ओफ इंडिया ,टेलीग्राफ जैसे अखबार इतने लापरवाह हैं कि गलत संख्या छाप दें ?

या फिर सर्वेक्षण करनी वाली एजेंसियॉ ने ये गड़्बड़ घोटाला किया है ?

आपको उत्तर पता लगे तो बताना , मैं तो अभी भी भ्रमित ही हूं .
Post a Comment