There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, December 23, 2010

में आज धर्मशाला पहुँच गया हूँ .

में   आज धर्मशाला पहुँच गया हूँ .श्री प्रशांत योगी जी  की  स्प्रिचुअल लैब  में एक अजीब सा एहसास जी रहा हूँ . चारों ओर कुदरत के नज़ारे हैं .और मैं हूँ. दिल्ली की भागम भाग भरी जिन्दगी  से  थोडा सुकून महसूस कर रहा हूँ . प्रशांतजी के आत्मीय आतिथ्य  से भाव विभोर हूँ.  और सोच रहा हूँ की यहाँ पहले क्यों नहीं आया . सोचता हूँ की कुछ ताज़ी हवा,कुछ हरियाली ,कुछ खुशबू अपने  साथ ले जाऊं . पर ये मुमकिन कहाँ . चलिए इन सब को अपनी रूह में बाबस्ता कर लेता हूँ. आज बस इतना हीं.
पंडित सुरेश नीरव
Post a Comment