Search This Blog

Thursday, December 23, 2010

नीरव और धर्मशाला


शब्द पंडित पंडित सुरेश नीरव जी धर्मशाला में पहुँच चुके हैं। उनके साथ डा० मधु चतुर्वेदीजी भी हैं। वे वहाँ श्री प्रशांत योगीजी के साथ धर्मशाला में यथार्थ काव्यांजलि वहाँ की दिव्यता, अलौकिकता एवं अनुपम लावण्यता को अथार्थ में अर्पित करेंगे। उनकी सुखद एवं मंगलमयी यात्रा की कामना करता हूँ।
भगवान सिंह हंस
Post a Comment