Search This Blog

Tuesday, January 11, 2011



जैसने भी पंडित सुरेश नीरव को सुना है या पढ़ा है वह सहर्ष मानता है कि नीरव जी कि जिह्वा पर, कलम की नोक पर या 'फ़िन्गर टिप्स'(क्म्प्यूटर पर) पर वाग्देवी सरस्वती विराजती‌हैं।
अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी सम्मेलन के लिये मंगल कामनायें
Post a Comment