Search This Blog

Saturday, January 29, 2011

जबरदस्ती मेरे ही मात्र नगर में मुझे अतिथि बना दिया हैं

आप सभी दोस्तों को बतादूँ की आज में ग्वालियर में हूँ और यहाँ एक कवि गोष्ठी में कविता पाठ कर झे हूँ इस गोष्ठी की अध्यक्षता श्री जगदीश परमार जी  कर रहे हैं और लोगों ने जबरदस्ती मेरे ही मात्र नगर में मुझे अतिथि बना दिया हैं इस गोष्ठी में अमित चितवन मधुलिका सिंह सुधा सिंह तथा पुष्य वर्धन ने कविता पाठ किया .
प्रस्तुती -जीतेन्द्र चाहर
Post a Comment