Search This Blog

Sunday, January 9, 2011

                बिल्कुल सही कहा .......माध्यम सही होना चाहिए !पुनः इंगित करूंगा तस्वीर की तरफ !गौर फरमाएं ...शब्द हैं ही नहीं और कमाल देखिये ,बात हो गई !कितने अर्थ-हीन हो गए शब्द !और कितना  अर्थ-पूर्ण हो गया ये माध्यम !कितना सही होगा ये माध्यम ........................................................प्रशांत योगी
Post a Comment