Search This Blog

Monday, February 28, 2011

ये सांझ मेरी असनाई में कुछ यादें और सजा दे तू...

ये सांझ मेरी असनाई में कुछ यादें और सजा दे तू...
वो दूर रहे चाहे जितना मिलने की आस बंधा दे तू॥
दुख देख मेरे जग हंसता है...
मेरे भी होंठ मचलते है...
अंतर दोनों के हिलने में...
मुझकों भी हंसना सिखला दे तू...
मनोज दीक्षित
सहारा समय
Post a Comment