There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, February 3, 2011

गीत


आज ब्लॉग देखा तो दो शुभ सूचनाएं प्राप्त हुई, बनारस में मिली पं. नीरव को ब्रह्मर्षि की उपाधि एवं मंजु ऋषि के नए काव्य संग्रह के शीघ्र आने की सूचना| मन अत्यंत हर्षित हुआ| वैसे पं. नीरव तो चिरकाल से परम हंस हैं, लोक ने अब उन्हें ब्रह्मर्षि मान लिया तो क्या बड़ी बात है? फिर भी लौकिक व्यवहार हेतु आत्मिक बधाई| बधाई, सुकुमार मंजु ऋषि को भी| मानव का लोकतंत्र में राम पढ़ा वैसी ही अनुभूति हुई जैसी माँ को अपने बालक की सफलता पर होती है| अरविन्द पथिक की सशक्त रचना (बिस्मिल की जन्म कथा) हेतु साधुवाद! विकास अरोरा की रचना भी प्रसंशनीय है| सूर्य कान्त बाली जी का भारत के नाम विषयक लेख अत्यन्त खोज परक है| साधुवाद!

डॉ. मधु चतुर्वेदी

गीत

पंथी, पथ से परिचय क्या?

बहुत सूक्ष्म पाथेय प्राण का,

अधिक फलों का संचय क्या?

दूर जिसे जाना होता,

वह न राह में थक कर सोता;

पथ की पहचानों में उलझा,

पंथी अपना परिचय खोता|

बढ़ते चरण बने भागीरथ,

लक्ष्य खोज का अभिनय क्या?

पंथी, पथ से परिचय क्या?

कर्मयोग ने रच दी गीता,

हल की रेख, बन गई सीता;

पथ की हर बाधा को साथी,

श्रम की मुस्कानों ने जीता|

आज करो पुरुषार्थ, सार्थ,

कल क्या होगा संशय क्या?

पंथी, पथ से परिचय क्या?

तोड़ निराशाओं के घेरे,

आशा के घर डालो डेरे;

इच्छित रंग भरो जीवन में,

तुम्हीं समय के कुशल चितेरे|

सूर्य कोटिश: दीप्त नयन में,

अंधियारे का फिर भय क्या?

पंथी, पथ से परिचय क्या?

डॉ. मधु चतुर्वेदी

Post a Comment