Search This Blog

Monday, March 7, 2011

बृहद भरत चरित्र महाकाव्य


हा रघुनन्दन! हा श्रीरामा। रावण ले चला स्वधामा । ।
हा महाबाहु! लक्ष्मण बीरा। कहाँ गए तुम ले धनु तीरा। ।
हा रघुनन्दन! हा श्रीरामा! मुझे रावण हरण करके अपने धाम ले जा है। हा महाबाहु! हा लक्ष्मण बीरा! तुम धनुष वाणलेकर कहाँ चले गए ।
हा स्वामी! बिलोक इस ओरा। रावण को दो दंड कठोरा। ।
जोर जोर से सीय विलापा । क्रूर ने दिया बहु संतापा। ।
हा स्वामी! इस देखो। इस रावण को कठोर दंड दो। सीता जोर- जोर से इस तरह विलाप कर रही है उस क्रूर ने मुझे बहुत दुःख दिया है।
मम स्वामी को बता बयारा। तरु लता को भी मम इशारा। ।
हे गोदावरी! मम प्रणामा। स्वामि से कहो हरी स्वभामा। ।
हे बयार! तू जाकर मेरे पति को बता दे। हे तरु-लता! मैं तुम को भी इशारा करती हूँ। हे गोदावरी! मैं तुझे भी प्रणाम करती हूँ। तुम सब जाकर मेरे स्वामि को कहो कि प्रभु! तुम्हारी पत्नी का रावण ने हरण कर लिया है।
रचयिता--भगवान सिंह हंस
प्रस्तुति --योगेश
Post a Comment