Search This Blog

Sunday, March 27, 2011

हम किश्तों में मरते हैं

रेत हूँ तुम कहकशाँ हो
मैं ज़मीं तुम आसमों हो
साथ रहना था मगर अब
मैं कहाँ हूँ तुम कहाँ हो
- - नित्यानंद `तुषार`
तू जाने किस हाल में है
मेरे नयना भीगे हैं

तुझको याद नहीं हैं हम
हम तुझको कब भूले हैं

यूँ जीते हैं तेरे बिन
हम किश्तों में मरते हैं
- - नित्यानंद `तुषार`
Post a Comment