Search This Blog

Sunday, March 13, 2011

आपने शब्दों को सिद्ध कर लिया है।


आदरणीय पंडितजी।
आपका संचालन कल दिल्ली दूरदर्शन पर सुनने को मिला। आपने कवियों और श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। आपने शब्दों को सिद्ध कर लिया है। मेरे पालागन
भगवानसिंह हंस
Post a Comment