There was an error in this gadget

Search This Blog

Wednesday, March 16, 2011

होली के रंग में गिर जाते हैं

                                                           चले आओ जहां हो
होली आ गई मेरे गोद लिए बापू नदारद हैं। पता नहीं कहां टल्ली हुए पड़े होंगे। अपने इकलौते बेटे की जरा भी परवाह नहीं,जब बापू आएंगे हम तभी होली मनाएंगे..
इशुमानव
Post a Comment