Search This Blog

Wednesday, March 16, 2011

होली लोकमंगलकी


              होरी है रे होरी है 
 ,                  प्रशांत कहें,सोरी है , होरी है रे होरी है ,
             नीरव से क्यों मुख मोरी है नवरंगरस में तू बोरी है
              ब्रज की तू छोरी है, परमार संग किशोरी है।
                  होरी है रे होरी है। मकबूल कहें,
                 सहज डारूं, पिचकारी भरी थोरी है
                रंग दूं वासंती चोली अभी तो कोरी है।
भगवानसिंह हंस 
Post a Comment