Search This Blog

Wednesday, May 11, 2011

उसूलों कायदों को तोड़ता है

उसूलों कायदों को तोड़ता है
वजन रखिये तो कागज़ दौड़ता है।

बदल कर क़त्ल को ये ख़ुदकुशी में
अभी लिख कर निशानी छोड़ता है।

हक़ीकत से ये बचता है हमेशा
मगर झूठों से रिश्ता जोड़ता है।

वो पढ़ लिख कर अभी बेकार ही है
बड़ी तेज़ी से पत्थर फोड़ता है।

वो बच्चों के किसी स्कूल में है
वहां फूलों की क्यारी गोड़ता है।
प्रकाश मिश्र
प्रस्तुति- मृगेन्द्र मक़बूल
Post a Comment