There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, July 7, 2011

सद-विचार -
बचपन में माँ की डाट च्यवनप्राश का काम करती थी, अब पत्नी की डाट लवण भास्कर चूर्ण का काम करती है.....
-राजेन्द्र पंडित
Post a Comment