Search This Blog

Friday, July 8, 2011

मधुशाला की मधुशाला

        My Photo      


मधुशाला की मधुशाला
आशंकाओं की हाला से 
भरा हुआ जीवन प्याला 
प्रियतम कैसे  कहूँ तुझे
मै आशंकित साकी बाला
कैसे होगा प्रणय निवेदन 
लब लोचन आशंकित हैं 
आशंका के अवनि अम्बर 
आशंका की  मधुशाला 

                                                                     घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment