There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, July 23, 2011

जयलोकमंगल

आज ब्लॉग पर भाई प्रकाश प्रलय की क्षणिकाएं पढ़ीं। मज़ा आ गया। सच्ची बात तो यह है कि अब उन्हें हिंदी में लिखना आ गया है। यह मज़ेदारी की बात हुई है। अब वो खुद लिख रहे हैं किसी सहयोगी से नहीं लिखवा रहे यह हर्ष की बात है। बधाई..
000
घनश्याम वशिष्ठजी 
कारगिल पर बहुत ही विचारोत्तेजक कविता आपने लिखी है। कई दिनों बाद एक अच्छी कविता पढ़ने को मिली। आप यूं ही लिखते रहें। मेरी शुभकामनाएं। 
पंडित सुरेश नीरव
Post a Comment