There was an error in this gadget

Search This Blog

Monday, July 4, 2011

जयलोकमंगल गुलजस्ता

जिस घड़ी नन्हे दिए की शोखियाँ लहरायेंगी
बस्तियों में कुछ हठीली आंधियां लहरायेंगी
ये खबर ज्यों ही मिली मेरा नशेमन बन गया
इस चमन में हर तरफ ही बिजलियाँ लहरायेंगी
धूल में मिल जायेंगे ये जुल्म के सरताज सब
जब हवा में बेबसों की मुठ्ठियाँ लहरायेंगी।
पंकज अंगार
00000000000000000000000000000

आज सुबह ५ बजे पत्नी ने मुझे जगाया ..........
---------
२० किलो गेहूं धुलवाया , २० किलो चावल छनवाया ,
घुन निकाल कर साफ़ करा कर , मुझसे ही ड्रम में रखवाया ,
गेहूं धोया , उसे उठाकर ,सर पर रख छत पर पहुँचाया ,
धनिया बीना , गरम मशाला कूटकाट कर उसे पिसाया ,
३ बजे पंडित जी आये , उनको सारी विपति बताया ,
४ बजे फिर खाना खाया , ६ बजते गेहूं उतारकर उसको ,
चक्की तक पहुँचाया ,
क्या बतलाओं तुम्हे दोस्तों ,
जाने किस उल्लू के पट्ठे ने ऐसा इतवार बनाया ......।
अशोक झंझटी
00000000000000000000000000000000000000
विश्वास की ज़िन्दगी से

एक पवित्र एहसास
जो रहता दिल के पास
पनपता उम्मीद से
ह्रदय की संगीत से
बन जाता जिंदगी का आकाश
जब मन के क्षितिज में पनपता विश्वास
विश्वासों की शाखाओं पे
कभी ख़ुशी तो कभी गम के
कभी वफाई तो कभी बेवफाई
कभी मिलन तो कभी जुदाई
यादों की पुरवाई में
हसीन फूल खिलते हैं
जब बड़ी दिल्लगी से
हम मिलते हैं ज़िन्दगी से
फिर क्युं घबरा जातें है
आँखों की नमी से
कुछ ज्यादा तो नहीं माँगा था
अपनी कलम की जिंदगी से
सुना था विश्वास मिलता है
प्यार से दिल्लगी से
अब परिभाषा ही बदल गई है
विश्वास की ज़िन्दगी से
अभिलाषा है मन प्यासा है
विश्वासों के फूल खिलेंगे
योगी मन एहसासों की बंदगी से
अरे कुछ तो हांसिल होगा
विश्वासों के घर जिंदगी से !
भ्रस्टाचार की गंदगी से !
अरविंद योगी

यह कविता क्यों ? विश्वास जिंदगी है, विश्वास मौत है, विश्वास ही प्रारब्ध है और विश्वास ही अन्त है बेचारी जिंदगी तो संत है !
अरविन्द योगी *विश्वास तोड़ने वालों को सहृदय समर्पित जय भारत।


Post a Comment