There was an error in this gadget

Search This Blog

Wednesday, August 24, 2011

बच्चे ने सुना भ्रष्टाचार मिटाना है , रबर लिया मिटा दिया 
उसने तो अपनी सामर्थ्य अनुसार कर दिया
आपने भी अपनी सामर्थ्य अनुसार करना है
वरना कल वही कहेगा ,हमारी पहली पीढी कितनी असमर्थ थी

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment