There was an error in this gadget

Search This Blog

Monday, August 22, 2011

आग लगने पर उन्हीं के झोंपड़े
 भक- भक कर जल गए
जिनके यहाँ
मुश्किल से चुल्हा जलता था 

घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment