Search This Blog

Saturday, August 6, 2011

अचरज में है बादल ........

                                           


 अचरज में है बादल ........                                                                                                                                               
 कहाँ से चुराया बतलाओ तो,
आँखों  का  ये  काजल 
अचरज में है बादल 

रसवंती ना रस छलकाओ 
मधुशाला ना होश उडाओ 
छल -छल छलके है मधुघट से 
यौवन का मदिरा जल 
होता मदिर मन पल -पल 

नज़रों के  ना  तीर चलाओ   
ठहरी पलकें तनिक गिराओ 
वरना हम गश खा जायेंगे 
खोकर चेतन निश्चल
पग छोड़े अचला तल

चिहुक-चिहुक ऐसे मत बोलो 
अधर युगल देखो मत खोलो 
सुर सागर में बह जाएगा 
यह चंचल कोलाहल 
मच जायेगी हलचल 

घनश्याम वशिष्ठ


Post a Comment