Search This Blog

Monday, August 22, 2011

मौसम है बेईमान ख़ुदा ख़ैर करे

मौसम है बेईमान ख़ुदा ख़ैर करे
साक़ी भी मेहरबान, ख़ुदा ख़ैर करे।

जितनी भी तितलियाँ हैं, वो छाते में छुपी हैं
बारिश से परेशान, ख़ुदा ख़ैर करे।

मेकप धुला तो सामने जामुन का रंग था
सब हो गए हैरान, ख़ुदा ख़ैर करे।

बारिश ने उनके चेहरे से घूंघट उठा दिया
ख़तरा है पहलवान, ख़ुदा ख़ैर करे।

टूटी हुई खटिया है और बिस्तरा उदास
निकले नहीं अरमान, ख़ुदा ख़ैर करे।

जम्हूरियत का यारो करिश्मा तो देखिये
पिद्दी भी पहलवान, ख़ुदा ख़ैर करे।

सीमेंट कौन खा गया, बस रेत-रेत थी
सब ढह गए मकान, ख़ुदा ख़ैर करे।
मृगेन्द्र मक़बूल
Post a Comment