There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, August 18, 2011

लगता है तेरा गीत अवधूत-सा


लगता है तेरा गीत अवधूत-सा 
जैसे अँधेरे में  भागते  भूत-सा
ये छलावा या मन बहलाव तेरा
साहिल तो खड़ा है  अकूत-सा.
Post a Comment