There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, August 11, 2011


अदाओं ने मारा निगाह ओ  करम ने मारा
इश्क ने नहीं इश्क के भरम ने मारा

घनश्याम वशिष्ठ

Post a Comment