There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, August 4, 2011

उम्र भर का हमसफ़र साहिल कहाँ से लाओगे

उम्र भर का हमसफ़र साहिल कहाँ से लाओगे
ख़ुद ही हल हो जाए, वो मुश्किल कहाँ से लाओगे।

दुश्मनों में दोस्ती का भी कहीं एहसास हो
गाल पर दुश्मन के ऐसा तिल कहाँ से लाओगे।

ज़िन्दगी भर राह में बोते रहे काँटों के बीज
ख़ुद जो चल के आए, वो मंज़िल कहाँ से लाओगे।

है जहां पर गंध चन्दन की, वहां विषधर भी हैं
जस में हों बस दोस्त, वो महफ़िल कहाँ से लाओगे।

अपने अरमानों का ख़ुद ही क़त्ल तो करते रहे
वो जो ख़ुद मकतूल हो क़ातिल कहाँ से लाओगे।

सच्चे दिल से प्रार्थना की बात करते हो पराग
यह तो बतलाओ कि सच्चा दिल कहाँ से लाओगे।
पराग
प्रस्तुति-मृगेन्द्र मक़बूल
Post a Comment