There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, September 24, 2011

 बत्तीस रुपये खर्च करके , पेट तो नहीं भर पाउँगा
पर इतना  निश्चित है -अब गरीब नहीं कहलाउंगा 

घनश्याम वशिष्ठ
 

Post a Comment