Search This Blog

Saturday, September 24, 2011

बिल्कुल नये दो मुक्तक दे रहा हूं

ऐसा नही किसी को चाहा नहीं कभी,
ऐसा नही किसी ने चाहा नहीं कभी,
कमज़र्फ नहीं हम बाज़र्फ लोग हैं --
चाहतों का ढोल बजाया नहीं कभी,

किसी बिगडैल नाजनीन की चाहत नहीं हैं ,हम
ज़िंदगी को      आपकी इनायत नहीं हैं, हम
खारिज़ करें या माने कुछ फर्क नहीं है--
इंकलाब हैं, ज़िंदा हैं,    रिवायत नहीं हैं हम         
Post a Comment