There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, September 22, 2011

छप्पन भोग कहाँ , धर्म तो रुखी रोटी निभाती है  
क्योंकि  यह किसी ज़रूरतमंद के पेट में जाती है 

घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment