There was an error in this gadget

Search This Blog

Wednesday, September 28, 2011

तेरी आवाज ही पहचान है तेरी

                    पद्मविभूषण  स्वर-साम्राज्ञी 
                          लता मंगेशकर
नवरात्रों पर स्वर्ग से नौ देवियां उतरकर आती हैं। और आज ही स्वर की देवी लता मंगेशकर ने भी इस धरती पर जन्म लिया था। हिंदी,बांगला,तमिल,मराठी डोगरी और अंग्रेजी में मधुर गीत गानेवाली स्वर साम्राज्ञी ने आज जीवन के 86 वसंत पूरे किये हैं। वो आज भी स्वरों को साधने के लिए रियाज करती हैं। भारत की आवाज को दुनिया में पहचान देनेवाली इस देवी को शतशः नमन.
जीवेम शरदः शतम-जीवेम शरदः शतम-जीवेम शरदः शतम-जीवेम शरदः शतम-जीवेम शरदः शतम
Post a Comment