Search This Blog

Monday, September 5, 2011

कभी नज़रें मिलाती हो ,कभी पलकें झुकाती हो 
कभी गर्दन झटक रुख पर,गिरी जुल्फें हटाती हो 
मुझे मालूम है दिल में तुम्हारे हो रहा कुछ -कुछ
अदाओं  से  जताती हो , निगाहों से  छुपाती  हो
घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment